Top Stories

Grid List

बॉलीवुड अभिनेता शाहिद कपूर कभी ट्विंकल खन्ना के दीवाने हुआ करते थे, आपको ये सुनने में थोड़ा अजीब लगेगा, लेकिन ये सच्चाई है. शाहिद ने खुद 'कॉफी विद करण' में इस बात का खुलासा किया है कि उन्हें ट्विंकल काफी अच्छी लगती थीं.

शाहिद ने करण के शो पर बताया कि एक वक्त था जब ट्विंकल स्वीमिंग के लिए जाती थीं तो वो उन्हें देखने के लिए वो अपने दोस्तों के साथ खड़े होकर इंतजार करते थे.

1997 में जब ट्विंकल फिल्म इतिहास में काम कर रही थीं, तो शाहिद की मां नीलिमा अजीम उस फिल्म में खास भूमिका में थीं. शाहिद खान इतिहास की शूटिंग के दौरान अक्सर सेट पर जाया करते थे.

शाहिद के इस सीक्रेट के बारे में जानकर खुद करण भी चौंक गए क्योंकि ट्विंकल करण की बचपन की दोस्त हैं और वो भी उन्हें काफी पसंद करते थे.

 

सुपरस्टार सलमान खान यह क्यों न कह रहे हों कि आमिर खान की 'दंगल' उनकी फिल्म 'सुल्तान' से बेहतर है, लेकिन बॉक्स ऑफिस पर कमाई का संग्रह कुछ अलग कहानी ही बयां कर रहा है. समीक्षकों द्वारा सराही जा चुकी 'दंगल' ने नोटबंदी के बाद भी अच्छा कारोबार किया है.

उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को रिलीज हुई फिल्म ने तमिल और तेलुगू से 59 लाख के साथ कुल 29.78 करोड़ रुपये की कमाई की है, लेकिन यह अपनी पहले दिन की कमाई से 'सुल्तान' को पछाड़ने में पीछे रही है. सलमान की फिल्म ने 36.54 करोड़ रुपये की कमाई की थी.

अली अब्बास जफर द्वारा निर्देशित 'सुल्तान' इस साल 6 जुलाई को रिलीज हुई. 

नीतेश तिवारी द्वारा निर्देशित 'दंगल' पहलवान महावीर सिंह फोगाट के जीवन पर आधारित है, जो अपनी बेटियों को पहलवानी के लिए प्रशिक्षित करता है.इसमें आमिर महावीर सिंह फोगाट की भूमिका में हैं.

फिल्म व्यापार के समीक्षक तरण आदर्श ने कहा कि 'दंगल' तीन दिनों में 100 करोड़ रुपये के क्लब में प्रवेश करेगी.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'दंगल' ने बॉक्स-ऑफिस पर आग लगा दी. शुक्रवार को रिलीज हुई फिल्म ने 29.78 करोड़ रुपये (तमिल और तेलुगू से 59 लाख रुपये) का व्यापार किया है. यह शनिवार और रविवार को बड़ा व्यापार करेगी। तीन दिनों में फिल्म 100 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर सकती है.

कपिल शर्मा ने पॉपुलैरिटी में आमिर खान, दीपिका पादुकोण और प्रियंका चोपड़ा को भी पछाड़ दिया है. फोर्ब्स इंडिया मैगजीन के 100 पॉपुलर सिलेब्स की लिस्ट में कपिल 7वें पायदान पर हैं. पिछले साल वो 27वें नंबर पर थे. 

बता दें इस लिस्ट में कॉमेडियन भारती सिंह और कृष्णा अभिषेक का नाम भी है लेकिन वो कपिल से काफी पीछे हैं. भारती 98वें नंबर पर हैं तो कृष्णा को 100वां पायदान मिला है.

कमाई के मामले में भी कपिल, आमिर खान , रणवीर सिंह और ए आर रहमान से आगे हैं. कमाई के लिहाज से कपिल पिछले साल 51वें पायदान पर थे लेकिन इस साल वो 11वें पायदान पर पहुंच गए हैं.

साल की शुरुआत में कपिल ने कलर्स चैनल के साथ टकराव के कारण 'कॉमेडी नाइट्स विद कपिल' शो छोड़ दिया था. चार महीने बाद उन्होंने सोनी टीवी पर अपनी टीम के साथ एक नया शो 'द कपिल शर्मा शो ' शुरू किया. शो की टीआरपी बताती है कि कपिल को लोग कितना पसंद करते हैं.

कपिल ने 2015 में 'किस किसको प्यार करूं' से बॉलीवुड में एंट्री ली थी और अभी वो अपनी दूसरी फिल्म की शूटिंग में बिजी हैं.

पटौदी के छोटे नवाब तैमूर अली खान अपने पैरेंट्स करीना कूपर खान और सैफ अली खान के साथ घर पहुंच गए. सैफ और करीना ने अपनी घर की बालकनी से मीडिया से इंटरेक्शन किया. अपने बेबी बॉय को गोद में लिए सैफ बहुत ही अडोरेबल लग रहे थे.

करीना कपूर खान ने 20 दिसंबर को अपने पहले बच्चे को जन्म दिया. जन्म के कुछ देर बाद से ही करीना संग एक बच्चे की तस्वीर वायरल होने लगी थी.

बेटे के जन्म के बाद ही सैफ ने कहा था कि मैं अपने बेटे तैमूर खान अली पटौदी की खबर आप लोगों से शेयर करके बेहद खुश हूं. मैं मीडिया का शुक्रिया अदा करता हूं जो पिछले 9 महीने से मीडिया ने हमे सपोर्ट किया.

सैफ और करीना ने कभी सोचा भी नहीं होगा कि जन्म लेते ही उनका बेटा सोशल मीडिया में कंट्रोवर्सी का कारण बन जाएगा. हुआ कुछ यूं कि सैफ ने जैसे ही अपने बेटे का नाम सोशल मीडिया पर अनाउंस किया, वैसे ही उसके नाम को लेकर लोगों ने नेगटिव कमेंट और पोस्ट करने शुरू कर दिए.

एक्ट्रेस लीजा हेडन ने हाल ही में अपने लॉन्ग टाइम ब्वॉयफ्रेंड डीनो ललवानी के साथ शादी की है. लीजा का कहना है कि शादी के बाद कम या ज्यादा उनकी जिंदगी पहले की तरह ही है.

एक्ट्रेस ने कहा- शादी के बाद जिंदगी में ज्यादा बदलाव नहीं आया. एक्ट्रेस ने कहा मैंने वापस वहीं काम शुरू किया, लेकिन मुझे लगता है कि बच्चा होने के बाद बदलाव आता है शादी के बाद नहीं.खासतौर पर अगर आप ऐसा व्यक्ति से शादी करते हैं जो आपकी जीवन शैली और पेशे को समझे.

उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि मैंने आधिकारिक तौर पर शादी होने से पहले ही मन में उनसे शादी कर ली थी. जब आपको प्यार होता है तो आप एक- दूसरे के लिए प्रतिबद्ध होते हैं.लीजा वेब श्रृंखला 'द ट्रीप' में दिखाई देंगी. इसका प्रीमियर 15 दिसंबर को होगा.

बॉलीवुड सुपरस्टार आमिर खान ने 1998 में अपनी फिल्म 'गुलाम' में 'आती क्या खंडाला' गाना गाया था. उसके 18 साल के बाद एक बार फिर आमिर खान ने अपनी अगामी फिल्म 'दंगल' के लिए 'धाकड़' गाने को रिकॉर्ड किया है. 

एक बयान के अनुसार, आमिर ने इस गाने के लिए वीडियो शूट भी किया जो लक्स गोल्डेन रोज पुरस्कार समारोह के दौरान पहली बार दिखाया जाएगा. इसका प्रसारण 18 दिसम्बर को जी टीवी पर होगा. 

अभिनेता अर्जुन कपूर इस पुरस्कार समारोह को अभिनेता शाहरुख खान और फिल्म निर्माता करण जौहर के साथ होस्ट करेंगे.

अभिनेता महिला सशक्तिकरण के बारे में बात कर सकते हैं और उनके साथ फिल्म 'दंगल' में उनकी बेटियों का किरदार निभाने वाली फातिमा शेख और सान्या मल्होत्रा भी मौजूद होंगी.

'धाकड़' गाने को मूल रूप से रैपर रफ्तार ने गाया है. यह फिल्म 'दंगल' का 'हानिकारक बापू' गाने के बाद रिलीज दूसरा गाना है.

फिल्म 'दंगल' का निर्देशन नितेश तिवारी ने किया है. यह फिल्म 23 दिसम्बर को रिलीज होने वाली है.

 

500 रुपए और 1000 रुपए के पुराने नोटों को बैंकों में जमा करवाने की समयसीमा आज यानी 30 दिसंबर को समाप्त हो रही है.

यदि आपके पास भी अब तक पुराने नोट रखे हैं तो चूकें नहीं और उन्हें अपने बैंक खाते में जमा करा दें. इसके साथ ही आपके लिए ये कुछ जानकारियां भी महत्वपूर्ण हो सकती हैं.

31 दिसंबर से सरकार का नया अध्यादेश लागू होगा. इसके मुताबिक पुराने नोट बेकार हो जाएंगे. हालांकि आय का स्रोत बताते हुए आप इन्हें आरबीआई की कुछ निश्चित शाखाओं में 31 मार्च, 2017 तक जमा करा सकते हैं.

लगेगा फाइन:

नए अध्यादेश के मुताबिक 10 से अधिक पुराने नोट रखने वाले लोगों पर 10,000 रुपये या फिर राशि का 5 गुना तक जुर्माना लग सकता है. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं कि यह पेनल्टी कब से लागू होगी (31 दिसंबर से या फिर 31 मार्च से).

रिसर्चर रख सकते हैं 25 से अधिक नोट:

रिसर्च और मुद्राशास्त्र से जुड़े किसी अध्ययन में जुटे लोग अमान्य करार दिए जा चुके अधिकतम 25 नोट अपने पास रख सकते हैं.

गलत जानकारी पर होगी पेनल्टी:

पुराने नोटों को जमा करते समय गलत जानकारी देने वाले लोगों को पकड़े जाने पर 50,000 रुपये या राशि के 5 गुना तक का जुर्माना चुकाना पड़ सकता है.

नए साल की पूर्व संख्या पर PM का संबोधन:

31 दिसंबर की शाम को प्रधानमंत्री राष्ट्र को संबोधित करेंगे. इस दौरान वह नए साल को लेकर कई योजनाओं की भी घोषणा कर सकते हैं. खासतौर पर नोटबंदी से प्रभावित सेक्टरों के लिए वह किसी राहत का ऐलान कर सकते हैं.

छोटे कारोबारियों के आएंगे मजे:

शीर्ष सरकारी सूत्रों के मुताबिक पीएम अपने संबोधन में लोगों की परचेजिंग पावर बढ़ाने और मीडियम एवं स्मॉल एंटरप्राइजेज को मजबूती देने के कदम उठा सकते हैं. इसके अलावा किसानों को भी शीर्ष प्राथमिकता में रखा जा सकता है.

टैक्स कलेक्शन बढ़ा:

वित्त मंत्री अरुण जेटली के मुताबिक नोटबंदी के चलते टैक्स कलेक्शन बढ़ा है. 19 दिसंबर तक डायरेक्ट टैक्स में 14.4 पर्सेंट का इजाफा हुआ है. इनडायरेक्ट टैक्स में 26.2 पर्सेंट की बढ़ोतरी हुई है. इसके अलावा सेंट्रल एक्साइज में भी 43.3 पर्सेंट ग्रोथ देखी गई है.

 

8. नए नोटों की उपलब्धता बढ़ी: वित्त मंत्रालय के मुताबिक मार्केट में नए नोटों की उपलब्धता तेजी से बढ़ रही है. अमान्य करार दी गई करंसी के बड़े हिस्से को बदला जा चुका है और नए 500 के नोट भी तेजी से सर्कुलेशन में आ रहे हैं.

 

सरकार ने दिया धन्यवाद: वित्त मंत्री अरुण जेटली ने नोटबंदी में जनता के सहयोग के लिए धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा कि पूरे देश में पुराने नोटों को लेकर किसी भी प्रकार का उपद्रव देखने को नहीं मिला है.

 

10. कैशलेस का विकल्प अपनाना होगा: सरकार ने स्पष्ट किया है वह पहले जितने नोट मार्केट में नहीं उतारने वाली. ऐसे में हमें कैशलेस होना सीखना होगा ताकि किसी तरह की समस्या का सामना न करना पड़ें.

 

सरकार देश के लाखों गरीबों को डेटा समेत स्मार्ट फोन फ्री में दे सकती है. पहले चरण में 70 लाख स्मार्ट फोन देने की घोषणा हो सकती है. इसके लिए वित्त मंत्रालय और टेलिकॉम मिनिस्ट्री को विस्तृत रिपोर्ट बनाने को कहा गया है.

मोदी सरकार 2017 के बजट में इसका ऐलान कर सकती है, जो इस बार 1 फरवरी को पेश होगा.एक सीनियर अधिकारी के मुताबिक, इस योजना के लिए सरकार के पास पर्याप्त पैसा है, जो यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF) से जुटाया जाएगा. यह एक ऐसा फंड है, जो हर साल टेलिकॉम कंपनियों को अपने लाभ में से सरकार के पास जमा कराना जरूरी होता है. 

इससे 2002 से 2014 तक 66 हजार करोड़ रुपये जमा हुए, जिसमें से सिर्फ 25 हजार करोड़ रुपये खर्च हुए हैं और 30 हजार करोड़ रुपये अभी बाकी हैं.

सूत्रों के मुताबिक, सरकार इस योजना को डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने की स्कीम से भी जोड़ सकती है. सरकार का मानना है कि इस योजना से दोहरा फायदा होगा. जहां लाखों बीपीएल गरीबों को स्मार्ट फोन देने से सरकार की लोकप्रियता बढ़ेगी, वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल लेन-देन को भी बढ़ावा मिलेगा.

मोदी सरकार अपने चौथे बजट में लोकलुभावन घोषणाओं पर फोकस कर सकती है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक, नोटबंदी से जनता को हो रही परेशानी और पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर सरकार इकनॉमिक रिफॉर्म के बजाय जनता को लुभाने वाली घोषणाएं कर सकती है. अब तक के तीन बजटों में मोदी सरकार ने आर्थिक सुधार को बजट के फोकस में रखा था और लोकलुभावन योजनाओं को कम जगह ही मिली थी.

भारत की घरेलू वाहन कंपनी महिंद्रा ऐंड महिंद्रा की जनवरी से अपने वाहनों के दाम में 26,500 रुपये तक वृद्धि की योजना है. कंपनी ने कच्चे माल की लागत में वृद्धि को देखते हुए यह फैसला किया है.

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के प्रवीण शाह ने बताया, 'हमारी अगले महीने से यात्री तथा वाणिज्यिक वाहनों के दाम में 0.5 से 1.1 प्रतिशत वृद्धि की योजना है. यात्री वाहनों की कीमत में 3,000 से 26,500 रुपये के दायरे में वृद्धि होगी, जो मॉडल पर निर्भर करेगी.'

उन्होंने कहा कि 3.5 टन तक क्षमता वाले छोटे वाणिज्यिक वाहनों की कीमत (एक्स शोरूम) में 1,500 रुपये से 6,000 रुपये तक की वृद्धि होगी. शाह ने कहा कि धातु समेत अन्य सामग्री के दाम बढ़ने से कच्चे माल की लागत बढ़ी है, इसको देखते हुए कीमत वृद्धि का फैसला किया गया.

उन्होंने कहा, 'इसके अलावा ईंधन की लागत बढ़ने से माल ढुलाई की लागत बढ़ी है. साथ ही नियामकीय माहौल में बदलाव का भी प्रभाव पड़ा है.' इससे पहले, ह्यूंदै मोटर इंडिया, निसान, रेनॉ, टोयोटा, टाटा मोटर्स, मर्सेडीज जैसी वाहन कंपनियां भी जनवरी से दाम बढ़ाने की घोषणा कर चुकी हैं.

 

सरकार एक 'आधार पेमेंट ऐप' लाने वाली है, जिससे डिजिटल पेमेंट की आलोचना करने वालों को खामोश कर सकती है. इस नए ऐप से प्लास्टिक कार्डों और पॉइंट ऑफ सेल मशीनों की भी जरूरत नहीं पड़ेगी जिन्हें कैशलेस समाज के लिए जरूरी माना जाता है.

इस ऐप को 25 दिसंबर को लॉन्च किया जाना है. इस ऐप से कार्ड सर्विस प्रवाइडर कंपनियों जैसे मास्टरकार्ड और वीजा को दी जाने वाली फी भी नहीं देनी होगी. इसके जरिए दूरदराज के ग्रामीण इलाकों में भी व्यापारी डिजिटल पेमेंट कर सकेंगे. 

इसके लिए सिर्फ एक एंड्रॉइड फोन की जरूरत होगी. व्यापारी को आधार कैशलेस मर्चेंट ऐप डाउनलोड करना होगा और स्मार्टफोन को एक बायोमेट्रिक रीडर से कनेक्ट करना होगा. यह रीडर 2,000 रुपये में मिल जाता है.

इसके बाद कस्टमर को ऐप में अपना आधार नंबर डालकर बैंक का चुनाव करना होगा, जिससे पेमेंट किया जाना है. इस ऐप में बायोमेट्रिक स्कैन पासवर्ड की तरह काम करेगा. 

यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) के सीईओ अजय भूषण पांडेय ने ईटी को बताया, 'यह ऐप किसी भी व्यक्ति द्वारा बगैर फोन के भी इस्तेमाल किया जा सकता है. 

अभी 40 करोड़ आधार नंबर बैंक अकाउंटों से जुड़े हुए हैं और यह भारत में वयस्कों की आधी संख्या के बराबर है. हमारा लक्ष्य है कि मार्च 2017 तक सभी आधार नंबरों को बैंक अकाउंटों से जोड़ दिया जाए.'

इस ऐप का निर्माण आईडीएफसी बैंक ने UIDAI और नैशनल पेमेंट डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के साथ मिलकर किया है. इस नई तकनीक को वित्त मंत्री अरुण जेटली और सूचना तकनीक मंत्री रविशंकर प्रसाद को भी 19 दिसंबर को दिखाया गया था. 

आईडीएफसी बैंक के एमडी और सीईओ राजीव लाल ने कहा, 'यह ऐप आधार पर चलेगा जिसका मतलब है कि यह एक बड़ी संख्या में लोगों को जोड़ेगा.'

जिस भी व्यक्ति के पास आधार नंबर है वह इस ऐप के द्वारा मर्चेंट को पेमेंट कर सकता है. इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा कि व्यक्ति के पास कोई क्रेडिट या डेबिट कार्ड या कोई मोबाइल फोन है या नहीं.

भारत में वैसे भी पॉइंट ऑफ सेल टर्मिनल को बहुत कम मान्यता है. अभी भी पूरे देश में केवल 15 टर्मिनल काम कर रहे हैं.' पॉइंट ऑफ सेल की स्वीकार्यता इसलिए भी कम है क्योंकि इसमें मर्चेंट को कार्ड कंपनियों को 2-3 पर्सेंट चार्ज देना पड़ता है. इसके अलावा कनेक्टिविटी की समस्या के कारण भी कार्ड पेमेंट की अपनी सीमाएं हैं.

मोदी सरकार जल्द ही नई गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन के लिए पार्किंग स्पेस प्रूफ को अनिवार्य कर सकती है. ऐसे में पार्किंग स्पेस प्रूफ दिखाने के बाद ही आप नई गाड़ी के मालिक बन पाएंगे. अगर ऐसा हुआ तो सड़कों पर से गाड़ियों के दबाव को कम करने की दिशा में यह एक अहम कदम होगा.

एक कार्यक्रम में बोलते हुए केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने इस संबंध में बात की. इस कार्यक्रम में नायडू ने स्वच्छ भारत अभियान को मजबूती देने के लिहाज से बिना टॉइलट के किसी भी नए निर्माण को मंजुरी नहीं मिलने की भी बात कही. वेंकैया ने कहा, 'भविष्य में बिना टॉइलट के किसी भी भवन निर्माण को अनुमति नहीं दी जाएगी. पार्किंग स्पेस सर्टिफिकेट के बिना किसी भी कार या गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नहीं किया जाएगा.'

केंद्रीय शहरी विकास मंत्री ने कहा कि इस संबंध में उनके मंत्रालय और भूतल परिवहन मंत्रालय के बीच चर्चा भी हुई है. नायडू ने कहा, 'मैं नितिन गडकरी के साथ चर्चा कर रहा हूं और राज्यों को भी इस मामले की जानकारी दी जा रही है. हम उस दिशा में आगे बढ़ रहे हैं जहां से इसे लागू किया जा सके.'

सर्दियों में पलूशन पर कंट्रोल करने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा देने के मकसद से दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला किया है. 

महीने तक डीटीसी और क्लस्टर बसों में किराए का एक ही स्लैब होगा. नॉन एसी बसों में 5 रुपये और एसी बसों में केवल 10 रुपये किराया लगेगा, चाहे दिल्ली और उससे सटे इलाकों में कितनी ही दूरी का सफर क्यों न किया जाए.

अभी नॉन एसी बसों में दूरी के हिसाब से 5, 10 और 15 रुपये किराया लगता है. एसी बसों में 10 से लेकर 25 रुपये तक किराया देना होता है. लेकिन जनवरी में सिर्फ 5 और 10 रुपये ही किराया लगेगा. 

यह फैसला नोएडा, गुड़गांव, फरीदाबाद, गाजियाबाद आदि जाने वाली डीटीसी बसों पर भी लागू होगा. फिलहाल यह स्कीम सिर्फ एक महीने ही चलेगी, बाद में जरूरत पड़ने पर इसे बढ़ाया जा सकता है.

ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ने बताया कि जनवरी में ज्यादा ठंड के कारण प्रदूषण भी ज्यादा होता है. सरकार चाहती है कि लोग पब्लिक ट्रांसपोर्ट का ज्यादा यूज करें, अपनी गाड़ियां लेकर न निकलें, इसीलिए किराये घटाए गए हैं.

भारत को स्वच्छ बनाने के लिए एक कदम आगे बढ़ाते हुए शहरी विकास मंत्री एम. वैंकेया नायडू ने गुरुवार को निकटवर्ती शौचालय का पता बताने वाले एप गूगल मैप की शुरुआत की. इससे लोगों को स्वच्छ सार्वजनिक शौचालय खोजने में मदद मिलेगी.

इस एप को गूगल ने विकसित किया है. इसकी सूचना आपको मोबाइल एप्लिकेशन के जरिए मिलेंगी. इससे आप हजारों सार्वजनिक शौचालयों में से स्वच्छ शौचालय को पा सकेंगे. फिलहाल यह सुविधा दो शहरों-दिल्ली और मध्य प्रदेश में मिलेगी.

एप की लांचिंग के मौके पर नायडू ने कहा कि 504 शहर और कस्बे खुले में शौच से मुक्त हो चुके हैं तथा 739 शहरों और कस्बों ने अगले साल मार्च तक खुले में शौच से मुक्त होने का दर्जा हासिल करने की प्रतिबद्धता जताई है.

उन्होंने कहा कि गुजरात, आंध्र प्रदेश और सिक्किम ने अपने सभी शहरों और कस्बों को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर दिया है. इसके अलावा केरल मार्च 2018 तक पूरी तरह ओडीएफ मुक्त हो जाएगा.

एप में राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में स्थित सभी शौचालयों की सूची दी गई है. इसमें गाजियाबाद, गुरुग्राम, नोएडा और फरीदाबाद और मध्य प्रदेश के भोपाल व इंदौर शामिल हैं. शौचालयों का पता सिर्फ एप से ही नहीं बल्कि डेस्कटॉप से भी लगाया जा सकता है.

 

चीनी टेक्नॉलोजी कंपनी लेनोवो अब भारत में K Note सीरीज के स्मार्टफोन दुकानों में भी बेचेगी. गौरतलब है कि K Note सीरीज के स्मार्टफोन्स पॉपुलर हैं. 

इस ऐलान के साथ कंपनी ने भारत में Lenovo K6 Note लॉन्च किया है. कंपनी के मुताबिक यह स्मार्टफोन अब 15000 रीटेल स्टोर्स पर शनिवार से मिलेगा जहां इसकी कीमत 13,999 रुपये से शुरू होगी.

कंपनी ने बजाज फाइनांस के साथ मिलकर जीरो पर्सेंट ईएमआई की सुविधा दी है . इसके अलावा कंपनी ने वर्चुअल रियलिटी हेडसेट ANT VR और VR कंट्रोलर भी ऑफलाइन बेचने का ऐलान किया है जिसकी कीमत क्रमशः 1,299 रुपये और 2,800 रुपये है.

5.5 इंच के इस फुल एचडी डिस्प्ले वाले स्मार्टफोन 64 बिट स्नैपड्रैगन 430 ऑक्टाकोर प्रोसेसर के साथ एंड्रॉयड 6.0 मार्शमैलो दिया गया है. इसके दो वैरिएंट हैं जिनमें से एक में 3GB रैम के साथ 32GB की इंटरनल स्टोरेज दी गई है जबकि दूसरे में 4GB रैम के 64GB मेमोरी है.

फोटोग्राफी के लिए इसमें एलईडी फ्लैश के साथ 16 मेगापिक्सल का रियर कैमरा दिया गया है जबकि सेल्फी के लिए 8 मेगापिक्सल का सेंसर है. कनेक्टिविटी के लिए इसमें 4G LTE सहित वाईफाई, ब्लूटूथ, जीपीएस और वाईफाई जैसे स्टैंडर्ड फीचर्स मिलेंगे. 

अगले साल iPhone 8 और Galaxy S8 लॉन्च होगा ये तो पता है, लेकिन अब सैमसंग और ऐपल के अलावा प्रीमियम कैटिगरी में एक बार फिर से नोकिया की वापसी हो रही है. 

यानी अगले साल iPhone 8 और Galaxy S8 की टक्कर नोकिया के हाई एंड स्मार्टफोन से हो सकती है. इससे पहले तक रिपोर्ट्स आ रही थी कि पहले एंड्रॉयड के साथ नोकिया बजट स्मार्टफोन के साथ वापसी करेगी. लेकिन अब एक नया डिजाइन लीक हुआ, जिससे देखकर लगता है कि अगला साल ऐपल और सैमसंग के लिए चैलेंजिंग होने वाला है.

नोकिया को एचएमडी ग्लोबल ने खरीदा है और कंपनी के मुताबिक 2017 के फर्स्ट हाफ में पहला एंड्रॉयड स्मार्टफोन लॉन्च किया जाएगा. संभव है कि इसे मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस के दौरान पेश किया जाएगा, क्योंकि कीनोट के दौरान कंपनी के सीईओ का भाषण है.

ताजा लीक के मुताबिक Nokia के हाई एंड एंड्रॉयड स्मार्टफोन का नाम Nokia P होगा. इसके डिजाइन और फोटो कथित तौर पर लीक हुए हैं. 

रिपोर्ट्स के मुताबिक इसमें 6GB रैम के साथ क्वॉल्कॉम का फ्लैगशिप प्रोसेसर Snapdragon 835 लगा होगा. इसका रियर कैमार Carl Zeiss का होगा और इसमें 23 मेगापिक्सल का सेंसर लगा होगा. 

नोकिया पहले से Carl Ziess लेंस से लैस स्मार्टफोन लाती रही है और यह बेहतरीन भी साबित हुआ है.स्पेसिफिकेशन्स और डिजाइन जैसे लीक हुए हैं अगर वैसे ही हुए तो जाहिर है इसकी कीमत भी टॉप एंड ही होगी.

यानी साफ तौर पर अगले साल चार स्मार्टफोन में कड़ी टक्कर होने वाली है. ऐपल, सैमसंग, गूगल और नोकिया. ये चारों कंपनियां 2017 में अपने फ्लैगशिप लाएंगी, लेकिन लोगों की नजरे नोकिया की वापसी पर ज्यादा है खास कर भारतीय बाजार में. क्योंकि नोकिया से लोगों का जुड़ाव है और लोगों को उम्मीद है कि कंपनी बाजार में धमाकेदार वापसी करेगी. 

 

 दिसंबर का महीना जहां सर्दी के साथ ही क्रिसमस की खुशियां लेकर आया है. वहीं, यह समय बहुत से लोगों के लिए ढेर सारी परेशानियां भी लेकर आता है, क्योंकि हजारों वंचित लोगों के लिए तेज सर्दी मुश्किल का कारण होती है.

अग्रणी दूरसंचार सेवा प्रदाता वोडाफोन इंडिया जरूरतमंद लोगों के लिए सीक्रेट सैंटा बनने और उनकी मदद करने का मौका लेकर आई है.

इस पहल के माध्यम से वोडाफोन लोगों को दान देने के लिए जागरूक करेगा तथा दान में आए उपहारों को जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाएगा. वोडाफोन दिल्ली-एनसीआर स्थित अपने 52 वोडाफोन स्टोर्स के माध्यम से जरूरतमंद लोगों को गर्म कपड़े और कम्बल दान देने के लिए आमंत्रित कर रहा है.

इस गतिविधि के तहत इकट्ठा हुई सामग्री एक स्वयंसेवी संस्था 'गूंज' को भेजी जाएगी जो जरूरतमंद लोगों की मदद और कल्याण के लिए काम करता है. इसके लिए आपको केवल अपने नजदीकी वोडाफोन स्टोर जाना है और कपड़े या कम्बल दान में देने हैं. यह पहल 21 से 25 दिसंबर तक सभी के लिए खुली है.

वोडाफोन इंडिया के दिल्ली-एनसीआर के बिजनेस हेड अपूर्व मेहरोत्रा ने कहा, "त्योहारों के सीजन में उदारता और बांटने की भावना चरम पर होती है. ऐसे में वोडाफोन सुनिश्चित करना चाहता है कि आपके द्वारा दान में दी गई चीजें सही हाथों तक पहुंचे. ये उन लोगों को मिलें, जिन्हें इनकी सबसे ज्यादा जरूरत है. हम इस पहल को बढ़ावा देने के लिए क्षेत्र में हमारे रीटेल स्टोर्स का इस्तेमाल कर रहे हैं. हमें विश्वास है कि हमारी इस पहल को दिल्ली-एनसीआर के लोगों से अच्छी प्रतिक्रिया मिलेगी और हम सब मिलकर इसे कामयाब बना पाएंगे."

उन्होंने कहा, "दिल्ली-एनसीआर में गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले लोगों की संख्या लाखों में है. ये वे लोग हैं जिन्हें अपनी रोजमर्रा की जरूरतों जैसे कपड़े, भोजन आदि के लिए भी कठिन संघर्ष करना पड़ता है. सर्दियों का मौसम एक बार फिर दस्तक दे चुका है, ऐसे में लोगों द्वारा दान में दिए गए कपड़े और कम्बल इन्हें दिल्ली-एनसीआर की भयंकर सर्दी से बचाने में मददगार होंगे."

 

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया ने एल. वी. प्रसाद आई इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर सोमवार को माइक्रोसॉफ्ट इंटेलीजेंट नेटवर्क फॉर आईकेयर (एमआईएनई) लांच किया. 

सेवा भावना के तहत शुरू की गई इस परियोजना के लिए वाणिज्यिक कंपनियों, शोध और शिक्षण संस्थानों ने कृत्रिम बुद्धिमत्ता के प्रयोग से अंधापन टालने और नेत्र देखभाल सेवाओं के दुनिया भर में वितरण में मदद करने के लिए हाथ मिलाया है.

इस परियोजना में भाग लेनेवाले संगठनों में बॉसकॉम पाल्मर- मियामी विश्वविद्यालय, फ्लॉम आई इंस्टीट्यूट- रोचेस्टर विश्वविद्यालय (अमेरिका), साओपाओलो फेडरल विश्वविद्यालय (ब्राजील) और ब्रायन होल्डेन विजन इंस्टीट्यूट (ऑस्ट्रेलिया) शामिल हैं. 

वर्तमान में दुनियाभर में 28.5 करोड़ लोग नेत्रहीनता के शिकार हैं, जिनमें से 5.5 करोड़ लोग भारत में रहते हैं. 

माइक्रोसॉफ्ट ने नेत्रहीनों की मदद के लिए उन्नत विश्लेषण के लिए और आईकेयर के लिए कृत्रिम बुद्धिमता मॉडल बनाने के लिए अपने प्रमुख क्लाउड प्लेटफार्म प्रौद्योगिकी कोर्टाना इंटेलीजेंट सूइट की तैनाती की है. 

माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के प्रबंध निदेशक अनिल भंसाली ने बताया, "एमआईएनई एक वैश्विक भागीदारी कार्यक्रम है जो डेटा, क्लाउड और उन्नत विश्लेषण की संयुक्त शक्ति में माइक्रोसॉफ्ट के विश्वास की पुष्टि करता है. हम मिलकर प्रिवेंटिव (पूर्व सर्तकता) अंधापन के उन्मूलन के लिए एमआईएनई की मदद से काम करेंगे."

एल.वी. प्रसाद संस्थान के संस्थापक-अध्यक्ष जी. एन. राव ने कहा कि वे मरीजों के परिणाम में सुधार के लिए माइक्रोसॉफ्ट के अजूरे मशीन लर्निग और पॉवर बीआई का प्रयोग करते हैं. उन्होंने कहा, "हमें भरोसा है कि इस भागीदारी से कई नेत्र रोगों के निदान में प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल का रास्ता खुलेगा."

 

अपने पी. श्रृंखला के स्मार्टफोन की कामयाबी का विस्तार करते हुए चीन की स्मार्टफोन कंपनी जियोनी ने सोमवार को भारत में पी7 स्मार्टफोन लॉन्च किया, जिसकी कीमत 9,999 रुपए है. इस बजट स्मार्टफोन में पांच इंच का आईपीएस एचडी डिस्प्ले है और वोल्ट तथा सीडीएमए प्रौद्योगिकी युक्त है.

जियोनी इंडिया के मार्केटिंग कम्युनिकेशंस दीपक सिंह ने कहा, "हमारा नवीनतम पी7 स्मार्टफोन में मजबूती व प्रदर्शन का मेल है."

इस फोन में 1.3 गीगाहट्र्ज प्रोसेसर और दो जीबी रैम, आठ मेगापिक्सल प्राइमरी कैमरा तथा पांच मेगापिक्सल सेकंडरी कैमरा है, जो टेक्स्ट रिकग्निशन इन पिक्चर्स, जीआईएफ क्रिएटर तथा इंटेलिजेंट फोटो क्रॉप की सुविधा से युक्त है.

पी7 स्मार्टफोन में 16 जीबी की इंटरनल मेमरी है, जिसे बढ़ाकर 128 जीबी तक किया जा सकता है. यह एमिगो 3.2 यूजर इंटरफेस तथा एंड्रॉयड के नवीनतम ओएस मार्शमैलो पर चलता है. इसमें 2300 एमएएच की बैट्री लगी है.

धूप लेने या विटामिन डी की खुराक से पेट में अच्छे जीवाणु की संख्या बढ़ाने और उपापचयी सिंड्रोम रोकने में मदद मिल सकती है.

उपापचयी सिंड्रोम एक प्रकार के लक्षणों के समूह हैं जो मधुमेह और दिल के रोगों का खतरा बढ़ाने वाले कारक हैं. एक नए शोध में यह बात सामने आई है.

वैज्ञानिकों ने अनुसंधान में पाया कि विटामिन डी की कमी चूहों में उपापचयी सिंड्रोम की प्रगति के लिए जरूरी होती है, जो पेट में होने वाली गड़बड़ी के लिए जिम्मेदार है.

अमेरिका के सेडर्स-सिनाई चिकित्सा केंद्र के शोधकर्ताओं में से एक स्टीफेन पंडाल ने कहा, "अध्ययन के आधार पर, हमारा मानना है कि सूर्य के प्रकाश, आहार या खुराक के जरिए विटामिन डी के स्तर को उच्च रखना उपापचयी सिंड्रोम को रोकने और इलाज में लाभकारी साबित हो सकता है."

उपापचयी स्रिडोंम वयस्क जनसंख्या के करीब एक चौथाई भाग पर असर डालती है. इस सिंड्रोम को एक समूह कारक के तौर पर परिभाषित किया गया है जो आपको दिल के रोगों और मधुमेह की तरफ ले जाते हैं.

इसके विशेष लक्षणों में कमर के चारो तरफ मोटापा और उच्च रक्त शर्करा स्तर, उच्च रक्त चाप या उच्च कोलेस्ट्रॉल जैसे लक्षण शामिल हैं. इससे ग्रस्त मरीजों में आमतौर पर जिगर में अतिरिक्त वसा जमा हो जाती है.

हालांकि अध्ययन में उपापचयी सिंड्रोम विटामिन डी की कमी से संबंधित पाया गया. इससे दुनिया भर की 30-60 फीसदी आबादी प्रभावित है.वर्तमान अध्ययन से सिंड्रोम में विटामिन डी की भूमिका को जानने और समझने में महत्वपूर्ण उन्नति हुई है.

अगर आपको गंभीर रूप से सांस फूलने की शिकायत है तो सावधान हो जाइए, क्योंकि यह हार्ट फेल्योर या सीएओपीडी (क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज) का संकेत हो सकता है.एक शोध में यह बात सामने आई है.

जल्दी-जल्दी सांस लेने या सांस फूलने को चिकित्सकीय भाषा में डायस्पनिया कहा जाता है, जिसमें छाती में बेहद कड़ापन महसूस होता है और दम घुटता है.

स्वीडन की यूनिवर्सिटी ऑफ गोथेनबर्ग में शोधछात्र नासिर अहमदी ने एक बयान में कहा, "दम फूलना मूलत: दिल या फेफड़े से संबंधित बीमारी का संकेत है, क्योंकि दोनों अंग श्वसन प्रणाली से काफी नजदीकी रूप में जुड़े हुए हैं."

 

शोधकर्ताओं ने कहा कि दम फूलने की गंभीर समस्या उच्च रक्तचाप का भी संकेत हो सकती है.अहमदी ने कहा, जब लोगों को सांस लेने में परेशानी की समस्या पेश आती है, तो वे अक्सर चिकित्सकीय सलाह लेने से परहेज करते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि यह बढ़ती उम्र का प्रभाव है.लेकिन अगर आपकी यह समस्या बढ़ती जाती है, तो आपको चिकित्सकीय सलाह जरूर लेनी चाहिए.

 

शोध की रिपोर्ट यह दर्शाती है कि जितनी जल्दी समस्या की जांच होगी, रोग का उतना ही बेहतर निदान होगा. शोध में यह बात सामने आई है कि दम फूलने की समस्या अगर छह सप्ताह या उससे अधिक समय तक जारी रहे, तो लोगों को चिकित्सकीय सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि यह हार्ट फेल्योर या फेफड़े की गंभीर बीमारी का लक्षण हो सकता है.

 

धूम्रपान से न सिर्फ दिल का दौरा, लकवा और रक्तचाप बढ़ने जैसी समस्याएं हो सकती हैं, बल्कि यह पुरुषों की यौन क्षमता पर भी असर कर सकता है.

जो लोग दिन में 20 सिगरेट पीते हैं उनमें मर्दाना ताकत कम होने की संभावना 40 प्रतिशत तक बढ़ जाती है, यह जानकारी इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के मनोनीत अध्यक्ष डॉ. के.के. अग्रवाल ने दी.

उन्होंने कहा कि धुएं में मौजूद निकोटीन विभिन्न अंगों को सिकोड़ सकता है. 'टोबैको कंट्रोल' में प्रकाशित एक अध्ययन के मुताबिक धूम्रपान करने वाले 16 से 59 वर्ष के पुरुषों में मर्दाना कमजोरी की संभावना दुगनी होती है. धूम्रपान के अलावा, मोटापा, ज्यादा शराब का सेवन और व्याग्रा जैसी दवाओं का दुरुपयोग पुरुषों की यौन सेहत पर असर डाल सकते हैं.

इसके साथ ही अनियंत्रित मधुमेह, रक्तचाप जो कि सर्दियों में आम बात है, का भी असर होता है.डॉ. अग्रवाल ने कहा कि सर्दियों में होने वाला तनाव कष्ट को और बढ़ा देता है. जो लोग धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं, सर्दियां उसके लिए बेहतर समय है.

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

आम धारणा के विपरीत दौड़ने से घुटने के जोड़ों में सूजन कम होती है और यह ऑस्टियोअर्थराइटिस की प्रक्रिया को भी धीमा करता है. एक शोध में यह बात सामने आई है.

अमेरिका के यूटा में ब्रिघम यंग विश्वविद्यालय में व्यायाम विज्ञान के सहायक प्रोफेसर व शोध के सहलेखक मैट सीली ने कहा, "यह विचार की लंबी दूरी की दौड़ आपके घुटनों के लिए बुरा है, एक मिथक हो सकता है."

शोध का प्रकाशन पत्रिका 'यूरोपियन जर्नल ऑफ एप्लाइड साइकॉलोजी' में किया गया है. इसमें शोधकर्ताओं ने सूजन पैदा करने वाले घुटनों के जोड़ों के द्रवों का कई स्वस्थ महिलाओं और पुरुषों में माप किया. इनकी उम्र 18-35 के बीच रही. इसे दौड़ने के बाद और पहले दोनों समय मापा गया.

शोधकर्ताओं ने पाया कि सिनोवियल द्रव से निकाले गए विशेष चिन्हक- दो साइटोकाइंस जीएम-सीएसएफ और आईएल-15 की प्रतिभागियों में दौड़ने के 30 मिनट बाद इनकी मात्रा में कमी हुई.

जब यही द्रव बिना दौड़ लगाए स्थितियों में पहले और बाद में निकाले गए तो सूजन चिन्हक एक समान स्तर पर ही रहे.

ब्रिघम यंग विश्वविद्यालय में हुए शोध के प्रमुख लेखक राबर्ट हाल्डॉल ने कहा, "हमें पता चला कि युवा, स्वस्थ व्यक्तियों में व्यायाम एक गैर-सूजन वाला वातावरण पैदा करता है जो लंबे समय के लिए जोड़ों के लिए फायदेमंद होता है.

 

हाल्डॉल के अध्ययन के परिणामों से संकेत मिलता है कि व्यायाम से ऑस्टियोअर्थाइटिस जैसे रोगों में जोड़ों में अपक्षय वाली बीमारियों में देरी से शुरुआत में मददगार होते हैं.

 

ठंड में मौसम में सर्दी-जुखाम होना आम बात हैं, लेकिन इसे नजरअंदाज करने की भूल जरा भी ना करें

सर्दियों में त्वचा रूखी हो जाती है और त्वचा से जुड़ी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इसलिए इस मौसम में अपनी त्वचा की खास देखभाल करें, ताकि आपकी त्वचा में नमी और निखार बरकरार रहे.

अपनी कारों में अडवांस सेफ्टी फीचर देने वाली कार निर्माता कंपनी वॉल्वो ने एक और नया सेफ्टी फीचर लॉन्च किया है. यह सेफ्टी फीचर 'रेड की' है. यह लाल चाबी खतरों से आपकी कार की सुरक्षा करेगी.

कई बार आपको अपनी गाड़ी किसी दूसरे व्यक्ति को देनी पड़ती है. दूसरे व्यक्ति पर थोड़ा भरोसा कम होता है और खतरे की आशंका बनी रहती है. ऐसे में यह चाबी गाड़ी की पूरी हिफाजत करेगी.

जब इस चाबी की मदद से कार को चलाया जाएगा तो कार की टॉप स्पीड घट जाएगी, अडोप्टिव क्रूज कंट्रोल सिस्टम आगे चल रही कार से ज्यादा से ज्यादा दूरी बना कर रखेगा और म्यूजिक सिस्टम की आवाज को भी तय सीमा से ज्यादा नहीं बढ़ाया जा सकेगा.

इसके अलावा अन्य सेफ्टी फीचर्स जैसे ब्लाइंड स्पॉट इंफर्मेशन सिस्टम, लेन कीपिंग सिस्टम, आगे से टक्कर होने की चेतावनी देने वाला वार्निंग सिस्टम, ड्राइवर अलर्ट कंट्रोल, किसी चीज से दूरी का अलर्ट देने वाला सिस्टम और ट्रैफिक संकेतों को पहचाने वाला सिस्टम भी ऑन रहेगा.

 

मारुति सुजुकी इग्निस की काफी डिमांड होने के कारण इसकी लॉन्चिंग को टाल दिया गया. पहले इसके 2016 में लॉन्च होने की उम्मीद थी. अब इसकी लॉन्चिंग की डेट कन्फर्म की गई है जो 13 जनवरी, 2017 है. 2016 ऑटो एक्सपो में भारत में इस कार की प्रदर्शनी की गई थी.

मारुति सुजुकी इग्निस पेट्रोल और डीजल, दोनों ही इंजन ऑप्शंस में आती है. इसके 1.2के सीरीज के पेट्रोल इंजन से 84.3पीएस की ताकत और 115एनएम तक टॉर्क पैदा होता है.

इसका डीजल इंजन 74 हॉर्स पावर की ताकत और 190एनएम तक टॉर्क पैदा होता है. इन दोनों ही इंजनों को 5-स्पीड मैन्युअल ट्रांसमिशन से जोड़ा गया है.

अपने हाई-सेट बॉनेट, यूनीक हनीकॉम्ब ग्रिल और डेटाइम रनिंग लाइट्स की वजह से यह गाड़ी बाकी कारों से काफी अलग नजर आती है. इस कार के चमकीले काले अलॉय वील्स इसे और आकर्षक बना देते हैं.

गाड़ी का पिछला हिस्सा फ्लैट है और इसमें वर्गाकार टेललाइट्स लगाई गई हैं. इस कार का पिछला हिस्सा आपको 1980 के दशक की फॉक्सवागन गोल्फ की याद दिलाता है.

इंटीरियर की बात करें तो केबिन नए डिजाइन का है. डैशबोर्ड पर नजर डालें तो यहां टॉप सेंटर में टचस्क्रीन सिस्टम दिया गया है. वहीं, एसी स्विच और अन्य कंट्रोल्स को नए डिजाइन में दिया गया है. क्लाइमेट कंट्रोल डिस्प्ले को कैप्सूल के आकार में रखा गया है. स्टीयरिंग वील्स को भी नया डिजाइन दिया गया है. इस पर मल्टिफंक्शन कंट्रोल दिए गए हैं. इंफोटेनमेट स्क्रीन के दोनों ओर स्‍क्वेर शेप्ड एसी वेंट्स दिए गए हैं. साइड में दिए एसी वेंट्स राउंड शेप में हैं.

एस-क्रॉस और बलेनो के बाद इग्निस मारुति सुजुकी का तीसरा प्रॉडक्ट होगा जिसे नेक्सा डीलरशिप के माध्यम से बेचा जाएगा. इसकी कीमत 5.5 लाख रुपये से शुरू होने की उम्मीद है.

बजाज ऑटो अपनी नई 2017 पल्सर रेंज के साथ तैयार है.बजाज ने 220एफ, 180, 150 और 135 एलएस समेत अपडेटेड 2017 पल्सर रेंज को लॉन्च कर दिया है.पल्सर 150 को छोड़कर अब सभी पल्सर बाइक में बीएसIV इंजन है.

बजाज ने पल्सर के 2017 के कलेक्शंस का नाम 'लेजर एज्ड' रखा है. नए कलक्शन के सभी मॉडल नीले और सफेद के डुअल टोन कलर में है. बजाज का दावा है कि नई पल्सरों में आरामदेह सीट और बेहतर एग्जॉस्ट सिस्टम है.

पल्सर 135 एलएस में 135 सीसी सिंगल सिलिंडर वाला BSIV इंजन है जो 13.3 बीएचपी पावर और 11.4 एनएम टॉर्क देता है.

पल्सर 180 में 180 सीसी का सिंगल सिलिंडर BSIV इंजन है जो 17 बीएचपी और 14.22 एनएम टॉर्क देता है.पल्सर 220 एफ में 220 सीसी वाला BSIV इंजन है जो 20.7 बीएचपी और 19 एनएम टॉर्क देता है. सभी मॉडल्स में 5-स्पीड गियरबॉक्स लगा है.

इससे पहले कंपनी ने अपने सोशल मीडिया हैंडल पर नई पल्सर के टीज़र को भी जारी कर दिया है.कंपनी ने दो टीज़र इमेज जारी की थी, जिसमें 2017 बजाज पल्सर 135, 150 और 220एफ की झलक दिखाई गई थी.

 

 

होंडा ने ब्राजील में आयोजित साओ पाउलो इंटरनैशनल मोटर शो-2016 में अपनी पहली कॉम्पैक्ट एसयूवी डब्ल्यूआर-वी को पेश किया था. भारत में इसे अगले साल मार्च में लॉन्च करने की संभावना है.

सब 4-मीटर एसयूवी सेगमेंट में इसका मुकाबला मारुति सुजुकी विटारा ब्रेज़ा, महिन्द्रा टीयूवी-300 और फोर्ड की ईकोस्पोर्ट से होगा.

डब्ल्यूआर-वी यानी विनसम रनअबाउट वीइकल को होंडा जैज के प्लैटफार्म पर तैयार किया गया है. इसका डिजाइन बॉक्सी और दमदार है. साइड से यह होंडा जैज जैसी है, लेकिन आगे से सीआर-वी और एचआर-वी की तरह इसे भी नया डिजाइन दिया गया है. इसके बोनट को ऊंचा रखा गया है.

इस वजह से यह आगे से चौड़ी नज़र आती है. यहां होंडा की नए डिजाइन वाली क्रोम ग्रिल भी दी गई है. इसके दोनों और स्वेप्ट बैक हैडलैंप्स के साथ एलईडी डे-टाइम रनिंग लाइटें लगी हैं. फ्रंट बंपर भी चौड़े डिजाइन का है.

डब्ल्यूआर-वी यानी विनसम रनअबाउट वीइकल को होंडा जैज के प्लैटफार्म पर तैयार किया गया है. इसका डिजाइन बॉक्सी और दमदार है. साइड से यह होंडा जैज जैसी है, लेकिन आगे से सीआर-वी और एचआर-वी की तरह इसे भी नया डिजाइन दिया गया है. इसके बोनट को ऊंचा रखा गया है. 

इस वजह से यह आगे से चौड़ी नज़र आती है. यहां होंडा की नए डिजाइन वाली क्रोम ग्रिल भी दी गई है. इसके दोनों और स्वेप्ट बैक हैडलैंप्स के साथ एलईडी डे-टाइम रनिंग लाइटें लगी हैं. फ्रंट बंपर भी चौड़े डिजाइन का है.

डब्ल्यूआर-वी में भी वही इंजन और गियरबॉक्स के ऑप्शंस होंगे, जो जैज में हैं. इसमें 90 बीएचपी पावर देने वाले 1.2 लीटर का पेट्रोल इंजन और 100 बीएचपी पावर देने वाले 1.5 लीटर का डीजल इंजन होगा.

इस के ज्यादातर फीचर होंडा जैज जैसे ही होंगे, यानी इस में भी जैज जितना जगहदार केबिन, सेगमेंट में सबसे ज्यादा बूट स्पेस, मैजिक सीट और दूसरे अच्छे फीचर मिलेंगे.

 

 

 

एक स्कूटर की कीमत आप क्या लगाते हैं. 30 से 40 हजार ना. तो जरा रुकिए ये कोई आम स्कूटर नहीं है. जब आप इसकी कीमत सुनेंगे तो यकीनन इसपर विश्वास नहीं कर पाएंगे. ये स्कूटर बड़ी-बड़ी गाड़ियों को टक्कर देने आ रहा है. 

अब वह जमाना गया जब कार का दरवाजा चाबी से खुलता था. भाई अब तो जमाना सेल्फी का है. हम किसी फोन की नहीं बल्कि कार की बात कर रहे हैं. 

Market Movers

Yahoo! Inc.

NMS : YHOO - 23 Mar, 4:00pm
46.60
+0.54 (+1.17%) After Hours:
Open 46.13 Mktcap 44.57B
High 46.78 52wk Hight 47.19
Low 46.09 52wk Low 34.62
Vol 8.30M Avg Vol 6.98M
Eps 0.68 P/e
Currency: USD

Alphabet Inc.

NMS : GOOG - 23 Mar, 4:00pm
817.58
-12.01 (-1.45%) After Hours:
Open 820.01 Mktcap 565.29B
High 822.57 52wk Hight 853.50
Low 812.26 52wk Low 663.28
Vol 3.49M Avg Vol 1.46M
Eps 33.34 P/e 29.33
Currency: USD

Apple Inc.

NMS : AAPL - 23 Mar, 4:00pm
140.92
-0.50 (-0.35%) After Hours:
Open 141.26 Mktcap 739.34B
High 141.58 52wk Hight 142.80
Low 140.61 52wk Low 89.47
Vol 20.35M Avg Vol 27.25M
Eps 8.94 P/e 16.92
Currency: USD
Advertisement

Weather

Delhi India Fair (night), 22 °C
Current Conditions
Sunrise: 6:20 am   |   Sunset: 6:35 pm
45%     11.0 mph     33.390 bar
Forecast
Fri Low: 18 °C High: 33 °C
Sat Low: 16 °C High: 32 °C
Sun Low: 18 °C High: 35 °C
Mon Low: 20 °C High: 35 °C
Tue Low: 21 °C High: 36 °C
Wed Low: 20 °C High: 37 °C
Thu Low: 20 °C High: 35 °C
Fri Low: 21 °C High: 36 °C
Sat Low: 21 °C High: 36 °C
Sun Low: 23 °C High: 36 °C